आप भी सदस्य बनें-

Saturday 4 July 2009

कैसे हुई मौत....???

आज मैं आपलोगों का ज्यादा समय नहीं लूँगा, हाँ यह जरूर बताना चाहूँगा कि आजतक मैंने जितने भी कार्टून बनाये उन सबसे अलग एक पहला कार्टून है जिसने मेरे दिल में जगह पायी है, मैं अबतक दस हजार से भी ज्यादा कार्टून बना चुका हूँ , पर आज जो कार्टून आपके सामने ला रहा हूँ ऐसे कार्टून कभी -कभार ही बन पाते हैं, आपसे निवेदन है -अपनी टिपण्णी देकर इस कार्टून का फ़ैसला बताना धन्यवाद्... !

--------------------------------------------

--------------------------------------------

11 comments:

  1. waah suresh jee..bahut hee gehraa ...kuchh behad gambheer caartoons mein se ek..

    ReplyDelete
  2. बहुत सही कहा जी आपने

    ReplyDelete
  3. मेरे पास एक तीसरा खोपडी है जिसने कहा :
    मुझे मेरे भाई ने मार डाला.
    ==================
    बहुत सुन्दर कार्टून

    ReplyDelete
  4. bahut hi umda soch k saath shndar cartoon......
    aapko dher saree shubhkamnaye....

    ReplyDelete
  5. very nice, Mahgaai to sabse bada kainsar hai

    ReplyDelete
  6. Parantu doosare ke saathi zyaadaa hain jo is samay maut ke liye waiting main hain.

    ReplyDelete
  7. हाय मँहगाई.....हाय मँहगाई

    ReplyDelete
  8. mujhe khed hai ki mera ye blog dobara bhool se jari ho gaya hai jisme cartoon nahi hai..mul blog KAISE HUI MAUT ko dekhne ke liye 3.00 pm se 4.00 pm ke bich ke blogon me dekhen.

    ReplyDelete
  9. बाकी जो बचा था महँगाई मार गयी !

    अच्छा व्यंग्य है.

    ReplyDelete

आपकी एक टिपण्णी हमारा मनोबल बढ़ाएगी !