आप भी सदस्य बनें-

Tuesday 14 July 2009

पुतला दहन....(कार्टून)

महंगाई, भ्रस्टाचार चरम पर है, आम जनता त्रस्त है, जनता बेचारी क्या करे ..विरोध में धरना-प्रदर्शन करती है..ज्यादा क्रोधित होने पर पुतला दहन करती है..इन दिनों पुतलों की बड़ी डिमांड है..सोचता हूँ, क्यों न एक पुतला सेंटर खोल लूँ , महंगाई के दौर में ये धंदा अच्छी कमाई करा सकता है...आपका क्या ख्याल है...?
--------------------------------------------------

--------------------------------------------------

Sunday 12 July 2009

दाल-रोटी पर आफत (कार्टून)

एक पुरानी फ़िल्म का गाना याद आ रहा है...दाल-रोटी खाओ प्रभु के गुन गाओ ! शायद उस ज़माने में गरीब को दाल-रोटी नसीब थी, लेकिन अगर हम आज की बात करें तो..गरीब की बात तो जाने दीजिये ..मध्यमवर्गीय की थाली से भी दाल-रोटी निकली जा रही है..दालों के भाव आसमान छु रहे हैं , हरी सब्जियों को बस दूर से निहारने के दिन आ गए हैं..ऐसे में खस्सी को खाने की सोचना भी बेईमानी की बात लगती है...देखिये कार्टून....