आप भी सदस्य बनें-

Sunday 26 July 2009

पत्नियों के पतियों सावधान...!

हम आपसे भला झूठ क्यों बोलें..आप तो हमारी मर्द जाति के हो, हमारी भी दफ्तर में एक फटाका सेक्रेटरी थी, फुर्सत में बड़ी काम आती थी,(आपकी भी है क्या?) पता नहीं, दफ्तर के किस कलमुंहे ने हमारी बीवी को यह राज बता दिया, और बीवी ने गरजते हुए हमसे कहा..........
-------------------------------------------

-----------------------------------------------

5 comments:

  1. yah bhi badhiya hai ....par aapaka kya khyal hai jarur bataye.....ha ha ha ha ha ha ha ha ha

    ReplyDelete
  2. Tit for tat
    सही है

    ReplyDelete
  3. वाह !! हिसाब किताब बराबर !!

    ReplyDelete
  4. स्त्री को बराबरी का अधिकार मिलना चाहिए!!

    ReplyDelete
  5. सही मांग है...
    इसमें इतना सोचने की क्या बात है..
    हा हा हा हा हा हा

    ReplyDelete

आपकी एक टिपण्णी हमारा मनोबल बढ़ाएगी !