आप भी सदस्य बनें-

Wednesday 24 June 2009

महिलाएं मुझे माफ़ करना....!

आज आपके लिए जो कार्टून मैं लेकर आया हूँ शायद उसे महिलाएं पसंद न करें ..ऐसा मैं इसलिए कह रहा हूँ क्योकि मेरे इस कार्टून को देखकर मेरी एकमात्र बीवी ने बेलन जैसे हथियार के साथ मुझे दूर तक भगाया था, अगर महिलाओं को मेरे कार्टून से कोई ठेस पहुँचती है तो मैंने पहले ही माफ़ी मांग ली है, पुरुषों से माफ़ी नही मांगूंगा क्योकि उन्हें तो यह कार्टून पसंद आना ही है..दोनों प्राणियों के कमेंट्स से ही पता चलेगा..कार्टून सही है या ग़लत..थैंक्स!
-----------------------------------------------------------------

-----------------------------------------------------------------

18 comments:

  1. यह शुद्ध हास्य है।
    अरे, यह वर्ड वेरीफिकेशन तो हटा ही दें।

    ReplyDelete
  2. haa haa haa magar ye kaam suna hai aajkal purushon ne apane haath me le liyaa hai

    ReplyDelete
  3. आपको एक नेक सलाह
    भविष्‍य में कार्टून बनाते समय
    हेलमेट पहन लिया करे।
    (मैं हेलमेट बनाने, बेचने से किसी प्रकार संबंधित नहीं हूं)

    सच्‍चाई कहोगे तो
    ऐसा ही होगा
    हेलमेट पहनकर
    कर सकते हो
    मुकाबला।

    ReplyDelete
  4. sir pls let us know where are you? prob not in the hospital.

    ReplyDelete
  5. हा हा हा
    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  6. AWINASH BHAI,aapne achhi salah di hai.aage se aapki salah par helmet pahan kar hi cartoon banaya karunga...HA..HA..HA...THANKS!

    ReplyDelete
  7. हाय!! ये आपने क्या कह डाला!!

    ReplyDelete
  8. suresh bhai...us doctor ka kya huaa..jo cartoon mein salaah de raha hai ..uskee to postmortem reeport pakki hai ..aur lagtaa hai mahilaaon ne aapko maaf nahin kiya ..ek nirmala jee aayee wo bhee hamaare upar hee laad kar chali gayee..

    ReplyDelete
  9. lagta hai bhabhiji bahut hi sajjan aur susanskrit hain ......ki unhone ne apko sirf daudaya hi.......bhabhiji ki tolerance power ko sadar pranam......

    ReplyDelete
  10. एक वैज्ञानिक तथ्य को कार्टून बता रहे हैं!? कमाल है शर्मा जी :-)

    ReplyDelete
  11. sureshji aap ne pehle hi maafi ki baat kah di hai to jyada talkh kuch nahi kahungi par yeh jarur kahna chahti hun ki its high time that we should do away with stereotypes related with women..chand tak pahunch gayi hain hum aur baat abhi tak hamari chugliyon ki hi ho rahi hai..

    ReplyDelete
  12. सच्चाई में माफी क्या....हा हा हा हा

    ReplyDelete
  13. भई ये तो शाश्वत सत्य है.....बहुत बढिया।

    ReplyDelete

आपकी एक टिपण्णी हमारा मनोबल बढ़ाएगी !